अहंकार आपका सबसे बड़ा दुश्मन है

जब तक अहंकार रहता हैं, तब तक ज्ञान नहीं होता और न मुक्ति होती हैं ।

जब तक अहंकार रहता हैं, तब तक ज्ञान नहीं होता और न मुक्ति होती हैं । इस संसार मे बार – बार आना पड़ता हैं ।बछड़ा ‘हम्बा – हम्बा ‘ (मैं , मैं ) करता हैं , इसलिए उसे इतना कष्ट भोगना पड़ता हैं । कसाई काटते हैं ।चमड़े से जूते बनाते हैं और जंगी ढोल मडि जाते हैं । वह ढोल भी न जाने कितना पीटा जाता हैं , तकलीफ कीहद हो जाती हैं । अंत मे आंतो से तांत बनाई जाती हैं । उस तांत से जब धुनिया का धुनहा बनता हैं और उसकेहाथ मे धुनकते समय जब तांत ‘तू- तू ‘ करती हैं , तब कही निस्तार होता हैं । तब वह हम्बा-हम्बा ( हम-हम) नहीं बोलती , ‘तू – तू ‘ करती हैं , अर्थार्त हें ईश्वर , तुम ही कर्ता हों , मैं अकर्ता । तुम यंत्री हों, मै यन्त्र । तुम्ही सबकुछ हों ।

धर्म स्वंय का निरादर करने वालो को नष्ट कर देता हैं, मार देता हैं और अपनी रक्षा करने वाले की रक्षा करते हैं ।इसलिए धर्म को कभी नहीं छोड़ना चाहिए । धर्म को कभी मरा न समझो और सर्वदा उसका पालन करते हुएउसकी रक्षा करो ।

Sign Up For Free Horoscope Report

Same Day Report Delivery by Email

Verified Secure
Payment

  • 100% Satisfaction Guarantee
  • Verified Expert Astrologer
  • 100% Secore Payment

Today’s Deal

Todays Deal

Know More About Your Date Of Birth